ना हो जुदा...



तू मेरा दिल है जाने जहाँ तू...
ना हो जुदा कभी मुझसे खफा तू |
क्यों मेरी आँखों में इतनी नमी है...
दिल के करीब तू ना कुछ कमी है |

ओ मेरी जान, ना हो जुदा..
छोड़ मुझे तू, दूर ना जा |
ओ मेरी जान, जाने जहाँ...
छोड़ मुझे तू, दूर ना जा |

कैसे बताऊँ तुझे कितना मैं चाहूँ...
धीरे धीरे से तेरा होने लगा हूँ |
बारिश की बूंदों में घुल गये हैं जैसे रंग...
चाहत तेरी मैं दिल में ले चला हूँ अपने संग |

तेरे ही संग हर रात ये गुज़रे...
तेरी ही बाहों में हर सुबह निकले |
कैसी ये खुशबू तेरी साँसों से आयी...
होठों पे हँसी तेरी खुशियाँ जो लायी |

तू मेरा दिल है जाने जहाँ तू...
ना हो जुदा कभी मुझसे खफा तू |
क्यों मेरी आँखों में इतनी नमी है...
दिल के करीब तू ना कुछ कमी है |

ओ मेरी जान, ना हो जुदा..
छोड़ मुझे तू, दूर ना जा |
ओ मेरी जान, जाने जहाँ...
आ मेरे पास तू, बनके हवा |


Comments

  1. Awesome work.Just wished to drop a comment and say i'm new your journal and adore what i'm reading.Thanks for the share

    ReplyDelete

Post a Comment